Home Blog

Hanta Virus

0
Hanta Virus

Hanta Virus Infecting Humans and Animals in China –  Hemorrhagic fever with renal syndrome (HFRS) may be a serious public ill health within the People’s Republic of China.

China – Although 7 sero genotypes of hantaviruses are found in rodents, only the Hantaan virus (carried by Apodemus agrarius mice) and therefore the Seoul virus (carried by brown rat rats) reportedly cause disease in humans. From 1950–2007, a complete of 1,557,622 cases of HFRS in humans and 46,427 deaths (3%) were reported in China.

Study in the UK : Why study in the UK?

Hantavirus – HFRS has been reported in 29 of 31 provinces in China. After the implementation of comprehensive preventive measures, including vaccination, within the past decade in China, the incidence of HFRS has dramatically decreased; only 11,248 HFRS cases were reported in 2007.
Mortality rates also declined from the very best level of 14.2% in 1969 to ≈1% during 1995–2007. However, the numbers of HFRS cases and deaths in China remain the very best within the world.

Infections in Humans

For humans, individual HFRS cases also as outbreaks are influenced by natural (e.g., ecologic) and occupational factors (3,18,19). Many hantavirus infections occur in persons of low socioeconomic status due to poor housing conditions (6). In China also , occurrence and epidemics of HFRS are influenced by natural and social factors (10,14,20–22). HFRS cases occur mainly within the northeastern, eastern, central, and southwestern parts of China (humid and semihumid zones) and infrequently within the northwestern part (arid zone) (Figure 2). Rural areas account for >70% of HFRS cases; i.e., mainly peasants are infected (9,10). Poor housing conditions and high rodent density in residential areas seem to be liable for most HFRS epidemics.

The increase of HFRS from the top of the 1970s coincided with the fast socio-economic development that started in 1978 in China. During the 1980s and 1990s, China underwent large changes like agricultural development, irrigation engineering, urban construction, mining, and highway and railway construction. These activities might increase human contact with rodents. Because rats are more mobile than other hantavirus hosts (4), fast socio-economic development also causes wide dispersion of rats and SEOV (23), which could subsequently cause the high nationwide prevalence of SEOV infections. However, improved housing conditions, improved hygiene, and human migration from rural areas to cities might contribute to the declining trend of HFRS cases since 2000.

Infections in Animals

Species diversity of rodents and insectivores in China is remarkable (27). a complete of 171 species of rodents, which belong to 10 subfamilies, are found; the subfamilies Murinae and Microtinae contain 38 and 43 species, respectively. additionally , a minimum of 32 species of insectivores is present. These rodent and insectivore species are distributed nationwide. In particularly, A. agrarius and R. norvegicus rodents, the reservoir hosts of HTNV and SEOV, are the predominant species (Table 1) and are found in 28 and 30 provinces, respectively, in China.

Hantavirus Isolates
Antigenic and genetic studies of hantaviruses isolated from HFRS patients and rodents in China found 3 hantaviruses in China: HTNV, SEOV, and Da Bie Shan virus carried by Chinese white-bellied rats (Niviventer Confucius) (Table 2, Figure 3) (11–13). Recently, we found Puumala virus-like Hokkaido virus in Myodes rufocanus voles (29), Khabarovsk virus in Microtus maximowiczii voles, Vladivostok virus in Microtus fortis, subspecies pellicles voles (30), and a presumably novel Yuanjiang virus in M. fortis, subspecies calamorum voles (8). So far, only HTNV and SEOV are known to cause HFRS in China (8–11). Because A. agrarius and R. norvegicus rodents are the predominant carriers and are distributed nationwide, HTNV and SEOV are obviously the main threat for HFRS in China.

Control and Prevention
To control and stop HFRS in China, a comprehensive preventive strategy has been implemented and includes public health education and promotion, rodent control, surveillance, and vaccination (10). Surveillance of hantavirus infection in rodents could help with the organization of a complicated warning service for possible increases in human infections. In 1984, national closed-circuit television was established in China (12). Each province to which HFRS is endemic has a minimum of 1 surveillance laboratory; the amount depends on the severity of HFRS. consistent with an invitation from the Chinese Center for Disease Control and Prevention (previously Chinese Academy of Preventive Medicine), studies are conducted to work out 1) the amount of HFRS cases, 2) the list of local small animal species (including their density in nature and in residential areas), and 3) hantavirus prevalence in rodent and human populations. The system has provided systemic epidemiologic knowledge of hantavirus infection in China.

Inactivated hantavirus vaccine was developed after HTNV and SEOV were successfully isolated and propagated in A-549 cells (31,37,38). Inactivated hantavirus vaccine was first approved in 1993 and, since 1995, has been utilized in areas where HFRS is very endemic. Four hantavirus vaccines supported inactivated HTNV and SEOV are widely used and demonstrated to be safe and efficacious (Table 3) (39). per annum , ≈2 million vaccine doses are used. Purified bivalent vaccine for HTNV and SEOV cultured in Vero cells have been used since 2003 (40). From 2008, the hantavirus vaccine has been included within the national Expanded Program on Immunization. For persons in areas during which HFRS is very endemic, the vaccination is freed from charge.

Sourced By – www.google.com 

इस सीन के बाद सारी रात रोई थी यह अभिनेत्री, वजह जानकर हैरान रह जाएंगे आप

0
इस सीन के बाद सारी रात रोई थी यह अभिनेत्री, वजह जानकर हैरान रह जाएंगे आप

मेरे प्यारे दोस्तों, आप लोगों को शायद ही पता हो कि कई बार स्क्रिप्ट की डिमांड होने के वजह से फिल्मों में कुछ ऐसे सीन में भी फिल्माने पड़ते हैं. जिसके बाद कलाकारों को वह सीन याद करके बहुत ही खराब लगता है। दोस्तों कभी -कभी तो कलाकार कुछ ऐसे सीन के बाद बुरी तरह से टूट जाते हैं।

तो दोस्तों आज के पोस्ट में हम आपको अमिताभ बच्चन की फिल्म के एक ऐसे सीन के बारे में बताने जा रहे हैंi जिस दिन के बाद इस फिल्म की अभिनेत्री बुरी तरह से रोने लगी थी। अगर आप भी जानने की इच्छा रखते हैं कि वह कौन सी फिल्म है और कौन सी अभिनेत्री है? तो जानने के लिए हमारी पोस्ट को अंत तक अवश्य पढ़ें।

तो चलिए शुरू करते हैं:–

दोस्तों, आपको बता दिए कि यह सीन अमिताभ बच्चन की फिल्म नमक हलाल के गाने में फिल्माया गया था। इस गाने में अमिताभ बच्चन के साथ स्मिता पाटिल थी। जी हां दोस्तों इस गाने के बोल है “आज रपट जाए तो हमें ना उठाइए” यह गाना बारिश में भीगते हुए रोड पर फिल्माया गया था। 

इस सीन के बाद सारी रात रोई थी यह अभिनेत्री, वजह जानकर हैरान रह जाएंगे आप

Third party image reference

उस समय के हिसाब से यह गाना बेहद ही बोल्ड और रोमांस से भरा था। आगे आपको बता दें कि इस गाने को फ़िल्माने के बाद स्मिता पाटिल सारी रात रोई थी क्योंकि गाना कई इंटीमेट सीन से भरा हुआ था। इसी बात को सोच सोचकर स्मिता पाटिल रो रही थी।फिर बाद में अमिताभ बच्चन को इस गाने का पता चला। जब अमिताभ बच्चन को इस बात का पता चला तो वह स्मिता पाटिल के पास गया और उन्हें समझाया।

Third party image reference

अमिताभ बच्चन स्मिता पाटिल को समझाते हुए कहा कि यह केवल स्क्रिप्ट की डिमांड थी। इसी वजह से हम इस तरह के सीन करने पड़े लेकिन हमने ऐसा कुछ गलत नहीं किया है। अमिताभ बच्चन के समझाने के बाद स्मिता पाटिल को कुछ एहसास हुआ कि उन्होंने केवल एक्टिंग कि उन्होंने ऐसा कुछ भी गलत नहीं किया है। उसके बाद स्मिता पाटिल ने सब कुछ भुला कर फिल्म की आगे की शूटिंग शुरू कर दी।

ICC टी-20 वर्ल्डकप से बाहर हो सकते हैं ये 4 दिग्गज खिलाड़ी, नं-1 का नाम चौकने वाला

0
ICC टी-20 वर्ल्डकप से बाहर हो सकते हैं ये 4 दिग्गज खिलाड़ी, नं-1 का नाम चौकने वाला

नमस्कार दोस्तों। आज की पोस्ट में हम आपको उन 4 भारतीय धुरंधर खिलाड़ियों के बारे में बता रहे हैं। जिनको शायद T20 विश्वकप 2020 में भारतीय टीम में जगह ना मिल पाए।

बड़ी ख़बर : विराट ने दिए संन्यास के संकेत, ये 3 खिलाड़ी होंगे कप्तानी के दावेदार

भारतीय टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी साल 2019 विश्व कप के सेमीफाइनल के बाद भारतीय टीम के साथ खेलते हुए नजर नहीं आए हैं। उनका लगातार इंतजार किया जा रहा है। मगर उनकी टीम में वापसी नहीं हो सकी है। ऐसे में शायद ही वह टी20 विश्व कप 2020 खेल सके। 

नंबर 3, ऋषभ पंत: 

भारतीय टीम में ऋषभ पंत को बतौर विकेटकीपर बल्लेबाज बहुत मौके दिए जा रहे हैं। मगर वह लगातार फ्लॉप हो रहे हैं। उनका बल्ला खामोश रहता है साथ में विकेटकीपिंग में वह कुछ खास नहीं कर पा रहे हैं। ऐसे में वह शायद विश्व कप 2020 में भारतीय टीम का हिस्सा ना रहे हैं। उनकी जगह के एल राहुल विकेटकीपर के रूप में दिख सकते हैं। 

नंबर 2, शिखर धवन:

शिखर धवन अक्सर चोटिल होकर टीम से बाहर होते रहते हैं। ऐसे में वनडे सीरीज में दक्षिण अफ्रीका खिलाफ उनको भारतीय टीम में मौका मिला था। मगर सीरीज कोरोना वायरस के कारण रद्द हो गई है और उनका प्रदर्शन अगर बेहतरीन नहीं रहा। टी-20 विश्व कप का हिस्सा शायद नहीं रहेंगे। 

नंबर 1, कुलदीप यादव:

भारतीय टीम में अक्सर यूज़वेंद्र चहल को मौका दिया जाता है और कुलदीप यादव को बाहर बैठना पड़ता है। इसके अलावा वाशिंगटन सुंदर, रविंद्र जडेजा जैसे स्पिनर गेंदबाज मौजूद होने के कारण शायद T20 विश्व कप 2020 में कुलदीप यादव को भारतीय टीम में जगह ना मिल सके।

Hello world!

1

Welcome to WordPress. This is your first post. Edit or delete it, then start writing!